Agniveer Yojana: अब अग्निवीरों को किया जाएगा परमानेंट, जाने क्या है खबर

Photo of author

Written byManju Chamoli

Published on

Agniveer Yojana: अब अग्निवीरों को किया जाएगा परमानेंट, जाने क्या है खबर

अग्निवीर योजना (Agniveer Scheme) को लेकर भारतीय सेना में कई विरोध और चर्चा हुई है। इस योजना का असर हाल ही में हुए लोकसभा चुनावों में भी देखने को मिला, जहां युवाओं ने अपने वोट का उपयोग इस मुद्दे पर विरोध जताने के लिए किया। अब खबरें आ रही हैं कि भारतीय सेना (Indian Army) सैन्य भर्ती के लिए अग्निपथ योजना (Agnipath Scheme) में संभावित बदलावों पर विचार कर रहे हैं।

अग्निपथ योजना में किया जाएगा बदलाव

हाल ही में तीनों सेनाओं ने इस योजना पर एक सर्वे किया, जिसके बाद कई महत्वपूर्ण बिंदु सामने आए हैं। हालांकि, सरकार के पास अभी तक कोई औपचारिक प्रस्ताव नहीं गया है, लेकिन सशस्त्र बलों द्वारा कुछ सुझावों पर गंभीरता से विचार किया जा रहा है।

रिटेंशन रेट बढ़ाने की योजना

अग्निपथ योजना में जिन प्रमुख बदलावों पर चर्चा हो रही है, उनमें से एक है नियमित सैनिकों के रिटेंशन प्रतिशत (Retention Percentage) को बढ़ाना। वर्तमान में, यह प्रतिशत 25% है, लेकिन इसे बढ़ाकर 60-70% तक करने पर विचार किया जा रहा है। विशेष बलों (Special Forces) और तकनीकी विशेषज्ञों (Technical Specialists) के लिए यह प्रतिशत 75% तक हो सकता है।

agniveer scheme

एक अधिकारी ने बताया कि सशस्त्र बलों में यह बदलाव वांछनीय है और इससे सैनिकों के बीच आपसी संबंध और भाईचारा बढ़ेगा। अन्य सेवाओं में भी कम से कम 50% अग्निवीरों को बनाए रखने पर चर्चा हो रही है।

ट्रेनिंग पीरियड और सेवा अवधि में सुधार

अग्निपथ योजना की घोषणा के समय, सैनिकों के लिए ट्रेनिंग पीरियड (Training Period) 37 से 42 हफ्ते का था। फीडबैक के अनुसार, इसे घटाकर 24 हफ्ते करने से सैनिकों पर Negative प्रभाव पड़ रहा है। इसलिए, सेना इस बात पर विचार कर रही है कि अग्निवीरों के ट्रेनिंग पीरियड को आम सैनिकों के बराबर रखा जाए और उनकी सेवा अवधि (Service Tenure) को 4 साल से बढ़ाकर 7 साल किया जाए। इससे उन्हें ग्रेच्युटी (Gratuity) और पूर्व सैनिक का दर्जा मिल सकेगा।

यह भी देखें निवेशकों के लिए खुशखबरी! इस ऊर्जा कंपनी के शेयर ने 9 महीने में दिया 9 हजार रुपये का रिटर्न, विदेशी ऑर्डर का मिला फायदा

निवेशकों के लिए खुशखबरी! इस ऊर्जा कंपनी के शेयर ने 9 महीने में दिया 9 हजार रुपये का रिटर्न, विदेशी ऑर्डर का मिला फायदा

ये सुझाव भी आए सामने

अन्य सुझावों में ग्रैजुएट कर्मियों (Graduate Personnel) को तकनीकी कार्यों के लिए हायर करने की बात भी शामिल है। एक अधिकारी ने कहा कि तकनीकी कामों के लिए प्रोफेशनल्स की आवश्यकता होती है और अग्निवीर उन्हें भर्ती करने का एक उत्कृष्ट तरीका है। उन्होंने यह भी कहा कि यदि इन बदलावों को लागू नहीं किया गया, तो 2035 तक कई वरिष्ठ पद रिक्त हो सकते हैं।

अग्निवीर योजना में इन संभावित सुधारों से भारतीय सेना को और अधिक कुशल और सक्षम बनाने में मदद मिलेगी। सैनिकों को बेहतर प्रशिक्षण और सेवा शर्तों के साथ, अग्निवीर योजना भारतीय सेना को नई दिशा में ले जाएगी और सैनिकों को बेहतर अवसर प्रदान करेगी।

इन सुधारों के साथ, अग्निवीर योजना भारतीय सेना को एक नई दिशा में ले जाएगी और सैनिकों को बेहतर अवसर प्रदान करेगी।

यह भी देखें NEET UG Counselling 2024: सुप्रीम कोर्ट का अहम फैसला, काउंसलिंग प्रक्रिया 6 जुलाई से शुरू

NEET UG Counselling 2024: सुप्रीम कोर्ट का अहम फैसला, काउंसलिंग प्रक्रिया 6 जुलाई से शुरू

Leave a Comment